कर्मभूमि - प्रेमचंद

This quote was added by rahulknp
विवाह हुए दो साल हो चुके थे पर दोनों में कोई सामंजस्य न था। दोनों अपने-अपने मार्ग पर चले जाते थे। दोनों के विचार अलग, व्यवहार अलग, संसार अलग। जैसे दो भिन्न जलवायु के जंतु एक पिंजरे में बंद कर दिए गए हों। हां, तभी अमरकान्त के जीवन में संयम और प्रयास की लगन पैदा हो गई थी। उसकी प्रकृति में जो ढीलापन, निर्जीवता और संकोच था वह कोमलता के रूप में बदलता जाता था। विद्याभ्यास में उसे अब रुचि हो गई थी।.

Train on this quote


[Archived]
Rate this quote: N A

Edit Text

Edit author and title

(Changes are manually reviewed)

or just leave a comment:


Test your skills, take the Typing Test.

Score (WPM) distribution for this quote. More.

Best scores for this typing test

Name WPM Accuracy
shubhammishra 57.49 97.3%
aishwary_varanasi 55.38 92.9%
aishwary_varanasi 53.23 93.4%
shubhammishra 52.35 91.1%
shubhammishra 52.11 92.8%
shubhammishra 51.35 90.8%
aishwary_varanasi 50.09 92.7%
aishwary_varanasi 46.75 88.4%

Recently for

Name WPM Accuracy
vimlesh.maurya42 39.31 94.5%
vimlesh.maurya42 39.50 96.6%
vimlesh.maurya42 44.85 97.1%
vimlesh.maurya42 46.00 98.3%
user75427 31.48 94.7%
vimlesh.maurya42 44.94 98.0%
user75427 30.47 94.1%
user75427 31.89 93.0%