कर्मभूमि - प्रेमचंद

This quote was added by rahulknp
मकान था तो बहुत बड़ा मगर निवासियों की रक्षा के लिए उतना उपयुक्त न था, जितना धान की रक्षा के लिए। नीचे के तल्ले में कई बड़े-बड़े कमरे थे, जो गोदाम के लिए बहुत अनुकूल थे। हवा और प्रकाश का कहीं रास्ता नहीं। जिस रास्ते से हवा और प्रकाश आ सकता है, उसी रास्ते से चोर भी तो आ सकता है। चोर की शंका उसकी एक-एक ईंट से टपकती थी। ऊपर के दोनों तल्ले हवादार और खुले हुए थे।.

Train on this quote


[Archived]
Rate this quote: N A

Edit Text

Edit author and title

(Changes are manually reviewed)

or just leave a comment:


Test your skills, take the Typing Test.

Score (WPM) distribution for this quote. More.

Best scores for this typing test

Name WPM Accuracy
aishwary_varanasi 46.27 84.9%
aishwary_varanasi 44.91 82.3%
aishwary_varanasi 44.24 85.4%
shubhammishra 42.40 80.6%
shubhammishra 40.41 81.1%
shubhammishra 40.33 80.6%
user724908 39.92 78.9%
user368399 4.10 69.4%

Recently for

Name WPM Accuracy
user724908 39.92 78.9%
shubhammishra 42.40 80.6%
shubhammishra 40.33 80.6%
shubhammishra 40.41 81.1%
aishwary_varanasi 44.91 82.3%
aishwary_varanasi 44.24 85.4%
aishwary_varanasi 46.27 84.9%
user368399 1.77 54.0%