बुद्धिमान खरगोश - रविकांत

This quote was added by rviknt
एक वन में भारसुक नामक एक सिंह रहता था । वह अत्यंत शक्तिशाली था। वह बल के मद में वन्य-पशुओ का अकारण ही वध किया करता था। बहाना क्षुधा- पूर्ती का बनाता था। बलशाली की क्षुधा भी उसके बल के समान ही बड़ी होती है। भारसुक ही जैसे -जैसे बलवान बनता जा रहा था, उसका अत्याचार भी बढ़ता जा रहा था। उससे पीड़ित वन्य पशुओ नें आपस में विचार करने का निर्णय लिया कि सिंह को प्रतिदिन एक पशु भोजन के लिए दिया जाए, इससे व्यर्थ नें संहार तो ना हो।.

Train on this quote


Rate this quote:
2.5 out of 5 based on 2 ratings.

Edit Text

Edit author and title

(Changes are manually reviewed)

or just leave a comment:


Test your skills, take the Typing Test.

Score (WPM) distribution for this quote. More.

Best scores for this typing test

Name WPM Accuracy
shubhammishra 51.59 91.0%
aishwary_varanasi 46.22 90.2%
shubhammishra 46.07 89.9%
jivan 35.66 92.2%
shashi.gpu 29.44 96.4%
tridev_1991 26.63 86.4%
user61828 19.03 94.5%
user716951 13.23 80.1%

Recently for

Name WPM Accuracy
shubhammishra 51.59 91.0%
user716951 13.23 80.1%
tridev_1991 26.63 86.4%
shubhammishra 46.07 89.9%
user61828 19.03 94.5%
shashi.gpu 29.44 96.4%
aishwary_varanasi 46.22 90.2%
jivan 35.66 92.2%