कर्मभूमि - प्रेमचंद

This quote was added by rahulknp
अमरकान्त के पिता लाला समरकान्त बड़े उद्योगी पुरुष थे। उनके पिता केवल एक झोंपडी छोड़कर मरे थे मगर समरकान्त ने अपने बाहुबल से लाखों की संपत्ति जमा कर ली थी। पहले उनकी एक छोटी-सी हल्दी की आढ़त थी। हल्दी से गुड़ और चावल की बारी आई। तीन बरस तक लगातार उनके व्यापार का क्षेत्र बढ़ता ही गया। अब आढ़तें बंद कर दी थीं। केवल लेन-देन करते थे। जिसे कोई महाजन रुपये न दे, उसे वह बेखटके दे देते और वसूल भी कर लेते उन्हें आश्चर्य होता था कि किसी के रुपये मारे कैसे जाते हैं- ऐसा मेहनती आदमी भी कम होगा।.

Train on this quote


[Archived]
Rate this quote: N A

Edit Text

Edit author and title

(Changes are manually reviewed)

or just leave a comment:


Test your skills, take the Typing Test.

Score (WPM) distribution for this quote. More.

Best scores for this typing test

Name WPM Accuracy
shubhammishra 36.19 75.6%
shubhammishra 35.09 74.5%
shubhammishra 31.84 72.1%
aarti2505 7.60 74.2%
user303568 4.13 63.1%
him_rajdon 0.00 30.3%

Recently for

Name WPM Accuracy
aarti2505 7.60 74.2%
him_rajdon 0.00 30.3%
shubhammishra 35.09 74.5%
shubhammishra 36.19 75.6%
shubhammishra 31.84 72.1%
user303568 4.13 63.1%